Friendship Day Shayari | Quotes | SMS

Friendship Day Shayari | Quotes | SMS

Check out this best collection of Friendship Day Shayari . Share these messages freely with your friends . Here you will find Happy Friendship Day Shayari in Hindi,Friendship Day SMS in hindi ,Friendship Day quotes,Best Friendship Day wishes,Friendship Day Images.
Friendship Day Shayari | Quotes | SMS ,Friendship Day SMS in hindi ,Friendship Day quotes,Best Friendship Day wishes,Friendship Day Images.

1. Happy Friendship Day Shayari in Hindi

एक किताब की तरह हूँ मैं,
कितनी भी पुरानी हो जाए..
पर उसके अलफ़ाज़ नहीं बदलेंगे..
कभी याद आये तो, पन्ने पलट कर देखना..
हम आज जैसे है, कल भी वैसे ही मिलेंगे.

Funny Husband Wife SMS | Latest Husband wife messages

Funny Husband Wife SMS | Latest Husband wife messages

Search Terms : Funny Husband wife SMS , Husband wife jokes in Hindi, Husband and wife messages , Funny images , Husband jokes , Husband and wife jokes


1.Funny Husband Wife SMS

बच्चे के पैदा होने के पाँच साल बाद एक दिन
 अचानक माँ को एहसास हुआ कि यह बच्चा हमारा नहीं लगता,
 क्यों न इसका DNA Test करवाया जाए।
🤗🤗🤗

शाम को उसका पति थका हारा ड्यूटी से घर वापस आया
तो उसने अपना संदेह व्यक्त किया कि देखो यह बच्चा
बड़ा विचित्र व्यवहार करता है, इसका चलना, खाना, पीना
और सोना, इत्यादि हमारे से बहुत भिन्न है। मुझे नहीं लगता कि
यह बच्चा हमारा है। चलो इसका DNA Test करवाते हैं।
😴😴😴😴

पति: डार्लिंग! तुम्हें यह बात आज अचानक पाँच साल बाद
क्यों याद आ गई? यह तो तुम मुझसे पाँच साल पहले भी पूछ सकती थी...!

Happy mothers Day (मातृ दिवस ) Poem Hindi

Happy mothers Day Poem Hindi

मदर डे जिसको हिंदी मे मातृ दिवस कहा जाता है , यह दिवस हर साल मई महीने के दूसरे संडे को मनाया जाता है | Mothers Day माताओ के लिए बहुत ही खास होता है ,और इस पर्व को और खास बनाने  के लिए हम आज आपके साथ Happy Mothers Day Poem in Hindi   शेयर करने जा रहे है | इन कविताओं के साथ आप अपने विचार , भावनाये अपनी माँ के साथ वक़्त कर सकते है |

1. Happy Mothers Day Poem in Hindi

............माँ झूठ बोलती है...................
.सुबह जल्दी उठाने सात बजे को आठ कहती
 नहा लो, नहा लो, के घर में नारे बुलंद करती है ,
मेरी खराब तबियत का दोष बुरी नज़र पर मढ़ती
 छोटी परेशानियों का बड़ा बवंडर करती है  ..........माँ बड़ा झूठ बोलती है

थाल भर खिलाकर तेरी भूख मर गयी कहती है
जो मैं न रहू घर पे तो मेरे पसंद की
कोई चीज़ रसोई में उनसे नही पकती है ,
मेरे मोटापे को भी कमजोरी की सूज़न बोलती है .........माँ बड़ा झूठ बोलती है